कांवड़ यात्रा:गंगा जल लेने आए हरिद्वार तो दर्ज होगा मुकदमा, यूपी-उत्तराखंड बॉर्डर पर सख्ती का प्लान तैयार

कांवड़ यात्रा:गंगा जल लेने आए हरिद्वार तो दर्ज होगा मुकदमा, यूपी-उत्तराखंड बॉर्डर पर सख्ती का प्लान तैयार

कांवड़ यात्रा पर रोक के बाद उत्तराखंड पुलिस ने कांवड़ियों को राज्य में प्रवेश न करने देने को लेकर कमर कस दी है। सीमाओं को कांवड़ियों के लिए 24 जुलाई से ही सील कर दिया जाएगा। अलबत्ता यदि दूसरे राज्यों की सरकारें या कांवड़ संघ टैंकर से गंगाजल लेने की अनुमति मांगते हैं तो पुलिस इस काम में उनका सहयोग कर सकती है। प्रदेश सरकार ने स्पष्ट किया है कि कोविड की दूसरी लहर के चलते इस साल भी उत्तराखंड में कांवड़ यात्रा पर रोक रहेगी। इस बीच यूपी में कांवड़ यात्रा की अनुमति होने के लेकर कांवड़ियों के उत्तराखंड प्रवेश की आशंका जताई जा रही है। अब डीजीपी अशोक कुमार ने स्पष्ट कर दिया है कि अगले सप्ताह तक सभी अंतरराज्यीय चेकपोस्ट पर अतिरिक्त फोर्स तैनात कर दी जाएगी। उन्होंने बताया कि पहले कांवड़ियों को समझा कर वापस किया जाएगा, फिर भी किसी ने जबरदस्ती की तो पुलिस सख्ती से काम लेगी।

टैंकर की अनुमति
डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि पुलिस अपनी तरफ से अन्य राज्यों के अधिकारियों के साथ सम्पर्क में है। कोशिश की जा रही है कांवड़िए उत्तराखंड का रुख ना करें। विशेष परिस्थितियों में यदि राज्य सरकारें, प्रशासन या कांवड़ समितियां टैंकर से गंगाजल ले जाने की अनुमति मांगते हैं तो अधिकतम दो लोगों को राज्य में प्रवेश की अनुमति प्रदान की जाएगी। पुलिस इस काम में उनकी मदद कर सकती है।

हमारा पहला प्रयास सभी को यह समझाने का है कि कोविड अभी खत्म नहीं हुआ है। इस कारण भीड़ जोड़कर अपनी और दूसरों की जान को खतरे में न डालें। इसके लिए पड़ोसी राज्यों के साथ लगातार संवाद जारी है। फिर भी कांवड़ियों का राज्य में प्रवेश रोकने के लिए, बॉर्डर पर अतिरिक्त फोर्स तैनात की जाएगी। राज्य में कांवड़ यात्रा पर रोक का सख्ती से पालन किया जाएगा।

कांवड़िए हरिद्वार आये तो दर्ज होंगे मुकदमे, 24 से सील कर दिया जाएगा बॉर्डर
हरिद्वार। उत्तराखंड सरकार की ओर से कांवड़ मेले में रोक लगाने के बाद हरिद्वार पुलिस ने कांवड़ियों को हरिद्वार आने से रोकने के लिए कमर कस ली है। एसएसपी ने बैठक कर रूपरेखा तैयार की कि कैसे कांवड़ियों को रोकना है? इसके लिए भी प्लान तैयार किया गया है। सीमाओं को कांवड़ियों के लिए 24 जुलाई से ही सील कर दिया जाएगा। कांवड़िये मेले के दौरान हरिद्वार आये तो उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा और उनके वाहन को भी सीज किया जाएगा। एसएसपी ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए है।

बुधवार को पुलिस लाइंस रोशनाबाद हरिद्वार के सभागार में एसएसपी सेंथिल अवूदई कृष्णराज एस ने हरिद्वार में कांवड़ियों को रोकने की रणनीती के संबंध में बैठक की। जिसमें सभी क्षेत्राधिकारी, कोतवाली प्रभारी एवं थानाध्यक्षों को बताया गया कि कोरोना संक्रमण से जनता की जान की सुरक्षा के दृष्टिगत सरकार ने कांवड़ मेला 2021 पर रोक लगाने का निर्णय लिया है। सरकार के निर्णय के पालन कराने के लिए तैयारियां की जानी है। प्रशासन की मदद से सीमाओं को कांवड़ मेला शुरू होने से पहले ही सील कर दिया जाएगा। साथ ही सोशल मीडिया के माध्यम से आदेश के संबंध में व्यापक प्रचार प्रसार किया जाएगा। 10 पुलिस टीम को हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, यूपी और पश्चिमि उत्तर प्रदेश के विभिन्न शहरों में भेजा जाएगा।

एसएसपी ने एसपी क्राइम प्रदीप राय, एसपी ग्रामीण प्रमेंद्र डोबाल व एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय को निर्देशित किया कि वह समय से उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती जनपदों से बार्डर मीटिंग आयोजित करते हुए सूचनाओं का आदान-प्रदान करें। साथ ही नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहनों को सीज करने की कार्रवाई के बाद पार्किंग स्थलों का समय से चयन पहले ही कर लें। साथ ही बार्डर प्वाइंट्स पर अनुभवी पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों को नियुक्त किया जाएगा। एसएसपी सेंथिल अवूदई कृष्णराज एस ने कहा कि हरिद्वार की सीमा के अंदर आने पर कांवड़ियों के लिए आपदा प्रबंधन अधिनियम की धाराओं के तहत मुकदमे दर्ज किये जाएंगे।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
न्यूज़ उत्तराखंड News राज्यवार खबरें