तकनीकी News

IMG 20220103 WA0009

Kachra Mukt Shahar. Kachra Mukt Rashtra ठोस अपशिष्ट प्रबंधन कर कचरा मुक्त शहर हेतु दे योगदान-पूज्य स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज

Kachra Mukt Shahar. Kachra Mukt Rashtra ठोस अपशिष्ट प्रबंधन कर कचरा मुक्त शहर हेतु दे योगदान-पूज्य स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज

🛑 एकल-उपयोग प्लास्टिक

🔴 कचरा मुक्त शहर-कचरा मुक्त राष्ट्र

ठोस अपशिष्ट प्रबंधन कर कचरा मुक्त शहर हेतु दे योगदान-पूज्य स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज

ऋषिकेश, 3 जनवरी। परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने देशवासियों से कचरा प्रबंधन का आह्वान करते हुये कहा कि शहरों को कचरा मुक्त करने के लिये संस्थागत तंत्र विकसित करने के साथ ही प्रत्येक व्यक्ति को अपना योगदान प्रदान करना होगा। अपनी गलियों, गावों और शहरों को स्थायी रूप से स्वच्छ रखने के लिये बच्चों को बचपन से ही संस्कारित करना होगा।
पूज्य स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा कि कचरा मुक्त शहरों के निर्माण के लिये हमें ठोस अपशिष्ट का प्रबंधन करने के साथ ही एकल उपयोग प्लास्टिक का उपयोग बंद करना होगा। भारत में समग्र स्वच्छता विकसित करने के लिये अपशिष्ट प्रबंधन सबसे महत्वपूर्ण कारक है और इसके लिये एक स्मार्ट फ्रेमवर्क तैयार करना होगा तथा सभी को इसका पालन भी करना होगा।
पूज्य स्वामी जी ने कहा कि शहरों और गांवों को एक मॉडल के रूप में विकसित कर उनकी समग्र स्वच्छता पर विशेष ध्यान देना होगा। रिपोर्ट के आधार पर भारत को विश्व में सर्वाधिक कचरा उत्पन्न करने वाला राष्ट्र कहा गया है। भारत में प्रति व्यक्ति अपशिष्ट उत्पादन प्रतिदिन लगभग 200 ग्राम से 600 ग्राम तक होता है। नगरपालिका द्वारा लगभग 75.80 प्रतिशत कचरा एकत्र किया जाता है और इस कचरे का केवल 22.28 प्रतिशत ही संसाधित और उपचारित होता है। यह अनुमान लगाया जा रहा है कि वर्ष 2050 तक भारत का कचरा उत्पादन आज की तुलना में दोगुना हो जाएगा इसलिये भारत के प्रत्येक व्यक्ति को आज से ही इस ओर विशेष ध्यान देना होगा।
पूज्य स्वामी जी ने कहा कि भारत में प्रत्येक वर्ष एक व्यक्ति द्वारा औसतन 30 से 50 किलोग्राम सिंगल-यूज प्लास्टिक का उपयोग करके फेंक दिया जाता है, एकल-उपयोग वाले प्लास्टिक या डिस्पोजेबल प्लास्टिक ऐसा प्लास्टिक है जिसे फेंकने या पुनर्नवीनीकरण से पहले केवल एक बार ही उपयोग किया जाता है। यथा प्लास्टिक की थैलियाँ, स्ट्रॉ, कॉफी बैग, सोडा और पानी की बोतलें तथा अधिकांशतः खाद्य पैकेजिंग के लिये प्रयुक्त होने वाला प्लास्टिक इसे विघटित होने में सैकड़ों साल लग जाते हैं इसलिये वर्ष 2022 में संकल्प लें कि सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग नहीं करेंगे। उपलब्ध आँकड़ों के अनुसार, भारत में प्रत्येक वर्ष उत्पादित 9.46 मिलियन टन प्लास्टिक कचरे में से 43 प्रतिशत सिंगल यूज प्लास्टिक है इसलिये कोशिश करे कि जरूरत पड़ने पर बायोडिग्रेडेबल प्लास्टिक को ही उपयोग में लाये।

IMG 20220102 WA0021

Todays Horoscope Panchang आज का पंचांग एवं राशिफल

आज का पंचांग एवं राशिफल

02 जनवरी 2022

सम्वत् -2078 ।
सम्वत्सर – राक्षस (आनंद)।
मास – पौष।
पक्ष – कृष्ण।
दिन – रविवार।
ऋतु – हेमंत।
तिथि – अमावस्या रात्रि – 12:21 मि. तक उपरांत प्रतिपदा।
नक्षत्र – मूल दिन – 04:36 मि. तक उपरांत पूर्वाषाढ़ा।
योग – वृद्धि दिन – 10:00 मि. तक उपरांत ध्रुव।
पंचक – नहीं है।
भद्रा – नहीं है।
मृत्युबाण – नहीं है।
मूल – मूल का – 04:36 मि. तक है।
चंद्र राशि – धनु।
सूर्य राशि – धनु।
सूर्य नक्षत्र – पूर्वाषाढ़ा।
दिशाशूल – पश्चिम में।
अभिजित मुहूर्त – नहीं है।
राहुकाल – सायं – 04:30 मि. से 06:00 मि. तक।
सूर्योदय – 06:50 मि.।
सूर्यास्त – 05:18 मि.।
व्रत – कुछ नहीं।
पर्व – कुछ नहीं।

आज विषेश – अमावस्या स्नान,दान आदि के लिए पूण्य दायक,सर्वार्थ सिद्धि योग दिन – 04:36 मि. तक,शुक्र का वृद्धत्व आरंभ रात्रि – 03:49 मि. से आरंभ।

कल – यायि (मुद्दई) जयद् योग दिन – 03:00 मि. से रात्रि – 10:10 मि. तक।

मेष राशि – आज लाभ संभव है। नौकरी में अधिकार बढ़ेंगे। व्यावसायिक समस्या का हल निकलेगा। नई योजना में लाभ की संभावना है। घर में मांगलिक आयोजन हो सकते हैं। जीवनसाथी से संबंध घनिष्ठ होंगे। रोजगार मिलेगा। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी।

वृष राशि – आज कोई शुभ समाचार प्राप्त हो सकता है व्यवसाय ठीक चलेगा। मान बढ़ेगा। स्वजनों से मेल-मिलाप होगा। पुराने मित्र व संबंधियों से मुलाकात होगी। किसी की आलोचना न करें। खानपान का ध्यान रखें। आर्थिक संपन्नता बढ़ेगी।

मिथुन राशि – आज मनोरंजन एवं गीत-संगीत में रुचि बढ़ेगी। आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होगी। पुराना रोग उभर सकता है। शोक समाचार मिल सकता है। भागदौड़ रहेगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। अधूरे कामों में गति आएगी। व्यावसायिक गोपनीयता भंग न करें।

कर्क राशि – आज घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। धनलाभ होगा। व्यापार-व्यवसाय में उन्नति के योग हैं। वाणी पर संयम आवश्यक है। जीवनसाथी से मदद मिलेगी। सामाजिक यश-सम्मान बढ़ेगा। स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। यात्रा सफल रहेगी। प्रयास सफल रहेंगे। वाणी पर नियंत्रण रखें।

सिंह राशि – आज का दिन परिवार के सहयोग से उत्साहपूर्ण व्यतीत होगा। योजनानुसार कार्य करने से लाभ की संभावना है। आर्थिक सुदृढ़ता रहेगी। धनार्जन होगा। संतान के स्वास्थ्य पर ध्यान दें। बेचैनी दूर होगी। वैवाहिक प्रस्ताव मिल सकता है। कोर्ट व कचहरी में अनुकूलता रहेगी।

कन्या राशि – आज का दिन नये अनुबंध से शुरू होग। नई योजना बनेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। प्रसन्नता रहेगी। कार्य में व्यय की अधिकता रहेगी। दांपत्य जीवन में भावनात्मक समस्याएँ रह सकती हैं। व्यापार में नए अनुबंध आज नहीं करें। राजमान प्राप्त होगा।

तुला राशि – आज व्यवसाय ठीक चलेगा। प्रसन्नता रहेगी। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। पारिवारिक उन्नति होगी। सुखद यात्रा के योग बनेंगे। पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। स्वविवेक से कार्य करना लाभप्रद रहेगा।

वृश्चिक राशि – आज लाभ के अवसर मिलेंगे। प्रसन्नता रहेगी। कुछ मानसिक अंतर्द्वंद्व पैदा होंगे। पारिवारिक उलझनों के कारण मानसिक कष्ट रहेगा। पूजा-पाठ में मन लगेगा। कोर्ट व कचहरी के काम निबटेंगे। धैर्य एवं संयम रखकर काम करना होगा। यात्रा आज न करें।

धनु राशि – आज भूमि व भवन संबंधी योजना बनेगी। बेरोजगारी दूर होगी। लाभ होगा। मान-प्रतिष्ठा में कमी आएगी। कामकाज में बाधाएं आ सकती हैं। कर्मचारियों पर व्यर्थ संदेह न करें। आर्थिक लाभ मिलने से एक्स्ट्रा खर्च उठा पाएंगे। शत्रु सक्रिय रहेंगे। स्वास्थ्य कमजोर होगा।

मकर राशि – आज कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। राजकीय कार्य में परिवर्तन के योग बनेंगे। आलस्य का परित्याग करें। आपके कामों की लोग प्रशंसा करेंगे। व्यापार लाभप्रद रहेगा। नई कार्ययोजना के योग प्रबल हैं। ऐश्वर्य पर व्यय होगा। स्वास्थ्‍य कमजोर रहेगा। विवाद को बढ़ावा न दें।

कुंभ राशि – आज व्यावसायिक यात्रा मनोनुकूल रहेगी। कानूनी मामले सुधरेंगे। धन का प्रबंध करने में कठिनाई आ सकती है। आहार की अनियमितता से बचें। व्यापार, नौकरी में उन्नति होगी। लेन-देन में सावधानी रखें। बकाया वसूली के प्रयास सफल रखें।

मीन राशि – आज व्यापार-व्यवसाय सामान्य रहेगा। दूरदर्शिता एवं बुद्धि चातुर्य से कठिनाइयां दूर होंगी। राज्य तथा व्यवसाय में सफलता मिलने के योग हैं। पठन-पाठन में रुचि बढ़ेगी। पुराना रोग उभर सकता है। चोट व दुर्घटना से बचें। वस्तुएं संभालकर रखें। बाकी सामान्य रहेगा।

आचार्य धीरज द्विवेदी याज्ञिक
(ज्योतिष वास्तु धर्मशास्त्र एवं वैदिक अनुष्ठानों के विशेषज्ञ)
संपर्क सूत्र – 09956629515
08318757871

IMG 20211221 182726

PM Modi kanpur metro, कानपुर को आज मिलेगी मेट्रो की सौगात, मोदी दिखाएंगे हरी झंडी

PM Modi kanpur metr0, कानपुर को आज मिलेगी मेट्रो की सौगात, मोदी दिखाएंगे हरी झंडी

पीएम मोदी आज देंगे कानपुर को मेट्रो की सौगात, यात्रियाें को लुभाएंगी एडवांस्ड ट्रेन की यह खूबियां

PM Narendra Modi in Kanpur: पीएमओ की ओर से जारी बयान के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कानपुर मेट्रो रेल परियोजना का निरीक्षण करेंगे और आईआईटी मेट्रो स्टेशन से गीता नगर तक मेट्रो की सवारी करेंगे. कानपुर में मेट्रो रेल परियोजना की पूरी लंबाई 32 किलोमीटर है और इसे 11,000 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से बनाया जा रहा है.

PM Modi inaugurate Kanpur Metro प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) आज नौ किमी लंबे मेट्रो कारिडोर (Kanpur Metro Coridor) का शुभारंभ कर शहर की जनता को नए साल का तोहफा देंगे। 15 नवंबर,2019 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath)द्वारा कानपुर मेट्रो (Kanpur Metro)के सिविल निर्माण कार्य की शुरूआत की गई थी। इसके बाद दो साल के भी कम समय में विगत 10 नवंबर, 2021 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  (CM Yogi Adityanath)द्वारा कानपुर मेट्रो (Kanpur Metro)के ट्रायल रन की शुरूआत की गई। मंगलवार काे कानपुर मेट्रो (Kanpur Metro)के शुभारंभ के मौके पर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल (Anandi Ben Patel), मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath)और केंद्रीय शहरी एवं आवास मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Hardeep Singh Puri) उपस्थित रहेंगे। 

पीएमओ के एक बयान में कहा गया है कि शहरी गतिशीलता में सुधार करना प्रधानमंत्री के प्रमुख फोकस क्षेत्रों में से एक रहा है. कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के पूर्ण खंड का उद्घाटन इस दिशा में एक और बड़ा कदम है. यह आईआईटी कानपुर से मोती झील तक पूरा नौ किलोमीटर लंबा खंड है.

निरालानगर रेलवे मैदान में रैली को संबोधित करने के साथ ही मेट्रो ट्रेन समेत कई परियोजनाओं को हरी झंडी दिखाएंगे।

वे सुबह 10:25 आएंगे और शाम 4:40 बजे लौटेंगे। आईआईटी के दीक्षांत समारोह में वे छात्रों को डिग्री व पदक प्रदान करेंगे। इसके बाद आईआईटी स्टेशन से मेट्रो ट्रेन में बैठकर गीतानगर तक आएंगे। यहां से सड़क मार्ग से चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय जाएंगे।

logo

2022 में चीन को पिछाड सकता है भारत

Goldman Sachs के अनुसार भारत आने वाले 2022 में चीन को पिछाड सकता है। इंडियन इकोनॉमी ग्रोथ रेट सुपर फास्ट स्पीड से बढ़ने का अनुमान लगाया जा रहा है जो चीन के इकोनॉमी ग्रोथ रेट से कही ज्यादा होगा।

2021 में 8% ग्रोथ का है अनुमान

कोरोना महामारी के समय से भारत व अन्य देश आर्थिक मंदी से झेल रहे है। लेकिन भारत अब इस मंदी से लगातार निजात पा रहा है। अर्थव्यवस्था पटरी पर आते दिख रहा है। Goldman Sachs ने अपने हालिया रिपोर्ट GS Macro Outlook 2022 : the long road to higher rate में भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर सकारात्मक पक्ष रखा है। उम्मीद जताया गया है की भारतीय अर्थव्यवस्था की रिकवरी रेट 8% होगा। रिपोर्ट के अनुसार 2022 में ग्रोथ रेट 9.1% रहेगा जो चीन से ज्यादा रहेगा। 2023 में भी भारतीय अर्थव्यवस्था को नया आयाम देता हुआ यह जीडीपी ग्रोथ 6.3% रहेगा।

चीन के मुकाबले बेहतर रहेगा भारत का ग्रोथ रेट

जहां चीन की इकोनॉमी 2021 में 7.8% से 2022 में 4.8% ग्रोथ रहने का कयास रिपोर्ट में लगाया गया है। वही 2023 में यह ग्रोथ रेट 4.6% रह सकता है।

अगर बात अमेरिका की, की जाय तो GDP ग्रोथ रेट 2021 में 5.5% , 2022 में 3.9% और 2023 में 2.1% रह सकता है।

laptop

मोबाइल व टैबलेट में मिलेगी विद्यार्थियों को पाठ्य सामग्री – UP Govt

मोबाइल व टैबलेट में मिलेगी विद्यार्थिमोबाइल व टैबलेट में मिलेगी विद्यार्थियों को पाठ्य सामग्री – UP Govt

FB IMG 1636732564969

SeedMother Padmshree Rahibai Soma Popare बीजमात्रा पद्मश्री राहीबाई सोमा पोपेरे देसी बीजों को बचाने की मुहिम

SeedMother Padmshree Rahibai Soma Popare बीजमात्रा पद्मश्री राहीबाई सोमा पोपेरे देसी बीजों को बचाने की मुहिम

बीजमाता पद्मश्री
ये हैं महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के एक छोटे से गाँव की राहीबाई सोमा पोपेरे। ये ‘बीजमाता’/सीडमदर के नाम प्रसिद्ध है।
ये देसी बीजों को बचाने व उनके संवर्धन को लेकर काम करती है। कभी स्कूल नहीं गई और एक जनजाति परिवार से संबंध रखने वाली है राहीबाई। इनके बीज के प्रति ज्ञान को वैज्ञानिक भी लोहा मानते हैं। अपनी जिद्द और लगन से ये देसी बीजों का एक बैंक बनाई है जो किसानों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो रही है। ये देसी बीजों को बचाने व उसके समर्थन में तब आई जब इनका पोता जहरीली सब्जी खाने से बीमार पड़ गया। यही कोई बीस साल पहले। तब से ये जैविक खेती के साथ-साथ देसी बीजों के प्रयोग व उनके संरक्षण को प्राथमिकता देने लगी। ये कहती है कि भले ही हाइब्रिड बीजों की तुलना में ये देसी बीज कम उपज देते हैं लेकिन ये आपका स्वास्थ्य खराब नहीं करती,आप बीमारियों के चपेट में नहीं आते।
56 की साल राहीबाई सोमा पोपरे आज पारिवारिक ज्ञान और प्राचीन परंपराओं की तकनीकों के साथ जैविक खेती को एक नया आयाम दे रही हैं।
गुजरात और महाराष्ट्र में आज परंपरागत बीजों की मांग सबसे ज्यादा है।
और आज जो ये बीजों के माँग की आपूर्ति जो रही है तो बस इसलिए हो रहे हैं इनको जिंदा रखने के लिए राहीबाई जैसे लोग जीवित हैं। नहीं तो ज्यादा उपज और फायदा कमाने के चक्कर में