उत्तराखंड के काँटों का ताज खटीमा विधायक पुष्कर धामी के सर पर

उत्तराखंड के काँटों का ताज खटीमा विधायक पुष्कर धामी के सर पर

शरत शर्मा (हरिद्धार)

RT-PCR covid 19 जांच घोटालो व् बहादराबाद के विधायक सुरेश राठौर पर माननीय अदालत के आदेश से बलात्कार का मुक़दमा दर्ज करने की खबरों के बीच खटीमा विधानसभा के विधायक पुष्कर सिंह धामी को उत्तराखंड के 10 वे मुख्यमंत्री के रूप में शपथ दिलाई जाएगी। केंद्रीय मंत्री तोमर जी अध्य्क्षता में भाजपा विधायक दल ने पुषकर धामी के नाम पर मोहर लगा कर भाजपा ने , उत्तराखंड की जनता को 10 वा मुख्यमंत्री देने का काम किया। पुष्कर धामी खटीमा विधानसभा जो की उधम सिंह नगर जिले में आती है से अपने कांग्रेस प्रतिद्वंदी से 2709 वोटो से जीत कर विधायक बने थे। मुख्यमंत्री बनने की दौड़ में सतपाल महाराज व् धन सिंह रावत का नाम भी चर्चाओं में शामिल था। भाजपा ने विगत 4 महीनो की राजनैतिक उथल पुथल में अपनी पार्टी का अध्यक्ष व मुख्यमंत्री भी मैदानी सीट से ही चुना है। यह रामनगर चिंतन शिविर की मंत्रणा का परिणाम भी माना जा सकता है। उत्तराखंड बनाने के बाद यह प्रथम बार है की उत्तराखंड को किसी मैदानी सीट से जीत कर आये विधायक के रूप में मुख्यमंत्री मिला हो। कांग्रेस के नारायण दत्त तिवारी जी के बाद पुष्कर धामी मैदानी भावनाओ के प्रतिनिधत्व करते हुए उत्तराखंड के 10 वे मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेंगे। हालाँकि यह अल्पकालिक पद केवल फरवरी 2022 के बाद चुनाव होने तक ही है परन्तु इस निर्णय से भाजपा की चुनावी रणनीति का एक पहलु स्पष्ट हो रहा है की वे मैदानी अध्यक्ष व् मैदानी सीट के मुख्यमंत्री के साथ चुनाव में उतरेंगे। जबकि दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी ने अपनी पार्टी का मुख्यमंत्री उम्मीदवार पहाड़ी मूल के सेना से रिटायर्ड अधिकारी को बनाया है। उधर उत्तराखंड कांग्रेस अभी अपने नेता प्रतिपक्ष के नाम की भी घोषणा नहीं कर पायी है। और दिल्ली की आलाकमान के दरबार में मीटिंगों के दौर जारी है। सूत्रों की माने तो कांग्रेस में नेता प्रतिपक्ष के पद के साथ नए पार्टी अध्यक्ष के नाम की घोषणा भी की जा सकती है।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
कॉलम उत्तराखंड News न्यूज़ राजनीति