AUKUS,QUAD,क्वाड क्या है, Jan Media TV

AUKUS vs QUAD Military Vs Strategic Alliance, आखिर क्या है चीन की बैचेनी का सबब ?

AUKUS vs QUAD Military Vs Strategic Alliance, आखिर क्या है चीन की बैचेनी का सबब ?

आजकल AUKUS और QUAD की चर्चा हर तरफ हो रही है, वैश्विक परिदृश्य में इनका क्या महत्व है औऱ कौन से देश इनमे शामिल है , और क्या है इनका चीन से सरोकार। आइये जानते इन सब के बारे में।

चलिए पहले बात करते है AUKUS के बारे में

AUKUS यानी Australia ऑस्ट्रेलिया, United Kingdom ब्रिटेन और United States of America अमेरिका , इन तीन देशों का गठबंधन है, जिसका उद्देश्य है , ऑस्ट्रेलिया को परमाणु पनडुब्बियों को विकसित करने में अमेरिका और ब्रिटेन मदद करेंगे। अब इस गठबंधन से चीन को क्या फ़र्क़ पड़ता है और चीन क्यों करता है इसका विरोध , तो आपको बता दें ऑस्ट्रेलिया की स्ट्रेटेजिक पोजीशन चीन के लिए अति महत्वपूर्ण है, क्योंकि चीन और ऑस्ट्रेलिया आपस मे बड़ी समुद्री सीमा शेयर करते हैं , जहां से तकरीबन 42% समुद्री व्यापारिक गतिविधियां संचालित होती हैं। अब अगर ऑस्ट्रेलिया के पास परमाणु सम्पन्न पनडुब्बियों की तकनीक होती है तो वह चीन की विस्तार वादी नीतियों में बाधक हो सकता है, और चीन जो अपने बढ़ते हुए प्रभुत्व की बाधा मानकर इस AUKUS Military Alliances का विरोध कर रहा है।

AUKUS Alliance से एक और देश जिसको आपत्ति है वो है France फ्रांस, इस गठबंधन से जिस देश को सबसे ज्यादा तात्कालिक नुकसान हो रहा है वो है फ्रांस, क्योंकि फ्रांस और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहले ही परमाणु पनडुब्बी को लेकर एक बड़ी डील हो चुकी थी। इस 65 अरब डॉलर की डील में फ्रांस , ऑस्ट्रेलिया को परमाणु आधारित पनडुब्बी मुहैया कराने वाला था, जो अब AUKUS के अस्तित्व में आने के बाद खत्म हो गया है। इसी से नाराज़ फ्रांस ने ऑस्ट्रेलिया पर पीठ में छुरा घोंपने का इल्ज़ाम लगाया है और अमेरिका एवं ऑस्ट्रेलिया से अपने राजदूत तक वापस बुला लिया है। ऐसा द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद पहली बार हुआ है।

अब जानते है QUAD क्वाड के बारे में

QUAD क्वाड गठबंधन है चार देशों का , जिसमें शामिल है United States of America अमेरिका, Australia ऑस्ट्रेलिया, Japan जापान और India भारत. AUKUS की तरह ये एक Military Alliance नही होकर यह QUAD क्वाड एक Stratagic Alliance है, जिसमे यह चारों देश चतुर्दिक सहमति के आधार पर एक दूसरे का सहयोग करते हैं और पारस्परिक सहयोग से विकास की संभावनाएं तलाशते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वर्तमान अमेरिकी दौरे में Quad क्वाड की महत्वपूर्ण बैठक भी होनी है , जिसमे आगे की रणनीति पर चर्चा की जाएगी।

AUKUS और QUAD के केंद्र में है United States of America अमेरिका

दोनों समूह AUKUS और QUAD क्वाड के केंद्र में अमेरिका है, और इसके पीछे अमेरिका की मंशा कहीं न कहीं CHINA चीन की वैश्विक लीडर बनने की मंशा पर लगाम लगाना है। अमेरिका अपने इन सहयोगियों खासकर ऑस्ट्रेलिया को मजबूत करके चीन की विस्तारवादी नीतियों पर लगाम लगाना चाहता है।

क्या है CHINA चीन की बौखलाहट

China , QUAD और AUKUS को लेकर अमेरिका पर शीत युद्ध की शुरुआत करने का आरोप लगा रहा है, इसके पीछे की वजह ये है कि भारत, ऑस्ट्रेलिया, जापान, और ब्रिटेन के साथ चीन के सम्बंध अच्छे नही हैं और ये देश चीन की सीमाओं से किसी न किसी तरह से जुड़े हुए भी हैं। ऑस्ट्रेलिया ने तो खुलकर चीन के ऊपर कोरोना वायरस को पूरी दुनिया मे फैलाने का आरोप तक लगा चुका है। जापान के साथ चीन की तल्खी हमेशा से जगजाहिर रही है। ब्रिटेन ने भी कुछ समय से सभी मंचों पर चीन को घेरने की कोशिशें की है। भारत के साथ चीन का सीमा विवाद अभी तक चल रहा है, और चीन भारत के पड़ोसी देशों खास खास कर पाकिस्तान को उकसा कर भारत के विकास में बाधा डालने की निरंतर कोशिश कर रहा है। जहां अमेरिका चीन के बढ़ते हुए प्रभुत्व को रोकने के लिए प्रयत्नशील है वहीं बाकी सभी सहयोगी देश चीन की विस्तारवादी नीतियों और सीमा विवाद मामलों को लेकर परेशान हैं। और यही आधार है इन दोनों गठबंधनों का। यदि ये दोनों गठबंधन अपने लक्ष्य को प्राप्त करते है तो निश्चय ही चीन की विस्तारवादी नीतियों पर अंकुश लग सकता है, साउथ चाइना सी में जिस तरह से चीन ने व्यापक रूप से भौगोलिक परिस्थितियों को परिवर्तित करने की कोशिशें की है उस पर भी विराम लगने की संभावनाएं है , यही कारण है कि चीन इस तरह के बौखलाहट भरे बयान और प्रतिक्रियायें दे रहा है।

  •  
    44
    Shares
  • 43
  •  
  •  
  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shopping Cart

SPIN TO WIN!

  • Try your lucky to get discount coupon
  • 1 spin per email
  • No cheating
Try Your Lucky
Never
Remind later
No thanks
Enable Notifications    OK No thanks