health

Screenshot 20210927 130421

PM Digital Health Mission Unique Digital Health Card: पीएम नरेंद्र मोदी ने लॉन्च किया यूनीक डिजिटल हेल्थ कार्ड, एक कार्ड में सिमट जाएगी आपकी मेडिकल हिस्ट्री

PM Digital Health Mission Unique Digital Health Card: पीएम नरेंद्र मोदी ने लॉन्च किया यूनीक डिजिटल हेल्थ कार्ड, एक कार्ड में सिमट जाएगी आपकी मेडिकल हिस्ट्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज प्रधानमंत्री डिजिटल हेल्थ मिशन (Pradhan Mantri Digital Health Mission) लॉन्च किया। इसके तहत देश के सभी लोगों को एक यूनीक आईडी कार्ड दिया जाएगा, जिसमें उनके स्वास्थ्य से जुड़ी सारी जानकारी होगी। इसका सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि अगर आप देश के किसी भी कोने में इलाज के लिए जाएंगे तो आपको कोई जांच रिपोर्ट या पर्ची आदि नहीं ले जानी होगी। आपकी सारी जानकारी हेल्थ कार्ड में मौजूद होगी। डॉक्टर सिर्फ आपकी आईडी से ये जान सकेंगे कि आपको पहले कौन सी बीमारी रही है और आपका कहां क्या इलाज हुआ है।

जन धन, आधार और मोबाइल (JAM) ट्रिनिटी और सरकार की अन्य डिजिटल पहलों के रूप में तैयार बुनियादी ढांचे के आधार पर एनडीएचएम (NDHM) स्वास्थ्य संबंधी व्यक्तिगत जानकारी की सुरक्षा, गोपनीयता और निजता को सुनिश्चित करते हुए डेटा, सूचना और जानकारी का एक सहज ऑनलाइन प्लेटफॉर्म तैयार करेगा. प्रधानमंत्री डिजिटल स्वास्थ्य मिशन को भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है. इससे न केवल मरीजों को बल्कि डॉक्टरों और शोधकर्ताओं को भी काफी लाभ पहुंचेगा. डिजिटल होने की वजह से कागजी कार्रवाई से छुटकारा मिल जाएगा और डॉक्टर भी भली प्रकार से समझ सकेगा कि मरीज को पूर्व में कौन कौन सी बीमारी थी और आगे कौन से कदम उठाने हैं.

राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन (NDHM) को लॉन्च करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने कहा, ’21वीं सदी में आगे बढ़ते हुए भारत के लिए आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण है. बीते 7 वर्षों से देश की स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने का जो अभियान चल रहा है, वो आज से एक नए चरण में प्रवेश कर रहा है.’ उन्होंने कहा, ‘आज से आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन भी पूरे देश में शुरु किया जा रहा है. ये मिशन देश के गरीब और मध्यम वर्ग के इलाज में जो दिक्कतें आती हैं, उन्हें दूर करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाएगा. 3 साल पहले पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी की जयंती के अवसर पर पंडित जी को समर्पित आयुष्मान भारत योजना पूरे देश में शुरू हुई थी. मुझे खुशी है कि आज से आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन भी पूरे देश में शुरू किया जा रहा है.’

कोरोना काल में टेलिमेडिसिन का भी अभूतपूर्व विस्तार हुआ है। ई-संजीवनी के माध्यम से अब तक लगभग सवा करोड़ रिमोट कंसल्टेशन पूरे हो चुके हैं। ये सुविधा हर रोज देश के दूर-सुदूर में रहने वाले हजारों देशवासियों को घर बैठे ही शहरों के बड़े अस्पतालों के डॉक्टरों से कनेक्ट कर रही है। आयुष्मान भारत (PM JAY) ने गरीब के जीवन की बहुत बड़ी चिंता दूर की है। अभी तक 2 करोड़ से अधिक देशवासियों ने इस योजना के तहत मुफ्त इलाज की सुविधा का लाभ उठाया है। इसमें भी आधी लाभार्थी, हमारी माताएं, बहनें, बेटियां हैं।

karj

कर्ज मुक्ति के कुछ उपाय एक बार जरूर करें !

कर्ज मुक्ति के कुछ उपाय एक बार जरूर करें

हम सभी के जीवन में उतार चढ़ाव आते रहते है, कभी loan तो कभी debt, कभी emi तो कभी कुछ ! लेकिन कोई भी मुश्किल आने पर सबसे पहला द्वार ईश्वर का दिखता है !

वन्दे वांच्छित लाभाय चंद्रार्धकृतशेखराम्‌ ।
वृषारूढ़ां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्‌ ॥

नकरात्मकता को हटाने के लिए इस मंत्र का प्रयोग करें ! मन में स्थाईत्व प्रदान करता है यह मंत्र ! १०८ बार जप आपको सकारात्मक बना देगा !

दधाना करपद्माभ्याम्, अक्षमालाकमण्डलू।
देवी प्रसीदतु मयि, ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा।।

संयम तप वैराग्य के लिए 108 जप करना आपके लिए एक नए आयाम दिखायेगा !

अगर नवरात्री में १०८ बार यह मन्त्र जप करे तो कर्जों से मुक्ति तुरंत मिलती है जो इस प्रकार है
दारिद्रय दुःख भय हरिणी का त्वदन्या
सर्वोपकार करणाय सदार्द चित्ता।।

नवरात्रे में किये गए, आसान से उपायों से आप अपने आप को आर्थिक रूप से मजबूत तो करते ही है आप अपने कर्जों से भी मुक्ति पा सकते है !

वन्दे वांछित कामर्थेचन्द्रार्घकृतशेखराम्।

सिंहरूढाअष्टभुजा कुष्माण्डायशस्वनीम्॥

रोग, दोष, शोक की निवृत्ति तथा यश, बल व आयु के लिए 108 जप करना आपके लिए नए पथ खोलेगी !

एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता।

लम्बोष्ठी कर्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्त शरीरिणी॥

काल से बचना है तो 108 जप मंत्र यह भी करें ! अकाल मृत्युं को भी हर लेगा !

श्वेते वृषे समरूढा श्वेताम्बराधरा शुचिः।
महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा।

शादी योग और संबंध के लिए, तो 108 जप मंत्र यह भी करें !

या देवी सर्वभूतेषु मां सिद्धिदात्री रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:। वन्दे वांछित मनोरथार्थ चन्द्रार्घकृत शेखराम्।

आशीर्वाद सुख समृद्धि के लिए, तो 108 जप मंत्र यह भी करें !

नवरात्री में कुछ टोटके
साफ और शुद्ध पानी से थोड़ा सा आटा गूंथें और उसकी एक लोई बनाकर उसे बहते पानी में प्रवाहित कर दें! कर्ज से अवश्य मुक्ति होगी !

कमल गट्टे से किया हवन भी कर्ज से मुक्ति दिलवाता है इसके लिए आप कमल गट्टे को पीस लें और उसमें देसी घी से बनी सफेद रंग की बर्फी मिलाकर हवन में 21 बार आहूतियां दें

Prayagraj Corona Update प्रयागराज मे कोरोना वायरस संक्रमण खात्मे की ओर

प्रयागराज मे कोरोनावायरस संक्रमण खात्मे की ओर
प्रयागराज में कोरोना संक्रमण की पुष्टि खात्मे की ओर संकेत मिल रहे हैं ।मंगलवार को जांच में सिर्फ दो लोगों में ही संक्रमण पाया गया। जबकि जांच सात हजार से ज्यादा हुई है। उसके पहले बीते साल 24 अप्रैल को सबसे कम 2 मरीज पाए गए थे उस समय जांच का आंकड़ा भी प्रतिदिन का 500 के आसपास ही था। इस लिहाज से स्वास्थ्य अधिकारी बड़ी राहत मान रहे हैं नोडल अधिकारी करोना डॉक्टर ऋषि सहाय के अनुसार कोरोना का दायरा बढ़ने के बाद भी कोविड-19 की घटती संख्या राहत देने वाली है। उन्होंने बताया कि जिला करोना मुक्त होने की तरफ बढ़ रहा है। सीएमओ डॉ प्रभाकर राय ने बताया कि मरीजों में लक्षणों का न देखना और जल्द स्वस्थ होने की गति जिले को संक्रमण मुक्त बनाएगी। मंगलवार एक संक्रमित को स्वस्थ होने के बाद यसआरयन अस्पताल से डिस्चार्ज हुआ।

कोविड-19 के वैक्सीनेशन से पहले एक बार फिर होगा dry-run उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ऐलान

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 11 जनवरी को कोरो वैक्सीनेशन के संबंध में एक बार फिर dry-run वैक्सीनेशन कार्य की सभी तैयारियों की समीक्षा के निर्देश दिए उन्होंने कहा दक्षिण नेशन का कार्य केंद्र सरकार की गाइडलाइन के अनुसार हो वैक्सीनेशन कार्य में केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित किए गए क्रम का प्रदेश दशा में पालन सुनिश्चित को मुख्यमंत्री बुधवार को यहां सरकारी आवास पर एक उच्च स्तरीय बैठक में अपने अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे वैक्सीनेशन के प्रथम चरण के टारगेट ग्रुप का डाटा फीड हो गया है द्वितीय चरण के कार्य ग्रुप के डाटा फीडिंग की कार्रवाई सुनिश्चित की जाए कोरोना वैक्सीन एशन के संबंध में सभी व्यवस्थाएं समय से पूर्ण किए जाएं

health 6

Yoga For Your Health

The world has undergone a cataclysmic change. The virus has not only affected the demography of the world but also the human mind giving rise to fear, disillusionment, nightmares and insecurity, says Paloma Gangopadhyay, celebrity yoga instructor and meditation expert. She adds that one way to fight back the virus is by maintaining good health, strong mind and strong immunity.

“However, building a strong mental focus is as important as boosting immunity. Below is a list of five asanas that you must practise every day to up your immunity levels and also improve focus,” she tells www.janmediatv.com.

Standing bow pose or dandayamana dhanurasana: This asana is the key to good health.

*It stimulates the cardiovascular system
*Increases blood circulation to the heart and lungs
*Opens diaphragm and the shoulder joints
*Improves the elasticity of the spine, thus reducing stress and rigid movement
*Improves strength and balance by firming the abdominal wall and upper thighs while also tightening the upper arms, hips and buttocks
*Increases the size and elasticity of the rib cage and lungs and improves the flexibility and strength of the lower spine
*Also helps your mind to focus more effectively and reduces stress

Triangle posture or Trikonasana

“This posture helps improve strength, stamina and concentration level. It opens up the major joints of the body and it, in turn, providing agility and increasing the blood supply to the lungs. It also relieves stress and improves digestion,” she says.

Yog Nidra

This posture promotes deep rest and relaxation. It calms the nervous system, leading to less stress and better functioning of all the organs. Yog nidra also helps manage, burnout, depression and a weak immune system.

snow winter night train transportation vehicle 1162035 pxhere.com 1 12

Small Girl Waiting Train After Party

Lorem Ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry. Lorem Ipsum has been the industry’s standard dummy text ever since the 1500s, when an unknown printer took a galley of type and scrambled it to make a type specimen book. It has survived not only five centuries, but also the leap into electronic typesetting, remaining essentially unchanged. It was popularised in the 1960s with the release of Letraset sheets containing Lorem Ipsum passages, and more recently with desktop publishing software like Aldus PageMaker including versions of Lorem Ipsum.