, Jan Media TV

e-Shram UP Yogi Govt will Transfer rs 1000 ई श्रमिकों को योगी सरकार देगी 1000 रुपये जानिये कैसे

e-Shram UP Yogi Govt will Transfer rs 1000 ई श्रमिकों को योगी सरकार देगी 1000 रुपये जानिये कैसे

e-Shram: आज श्रमिकों के खातों में आएंगे 1000 रुपये, यूपी के 1.5 करोड़ कामगारों को मिलेगा भरण पोषण भत्ता

Yogi Sarkar E-Shram Yojana: केंद्र की मोदी सरकार ने चार महीने पहले ई-श्रम पोर्टल लॉन्च किया था…अब तक ई-श्रम पोर्टल पर 17.46 करोड़ से ज्यादा श्रमिक रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं…रजिस्टर्ड श्रमिकों को योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश में हर महीने 500 रुपये देने का ऐलान किया है….तब से तेजी से रजिस्ट्रेशन किया जा रहा है….चलिए आपको बताते हैं ई श्रम कार्ड कौन लोग बनवा सकते हैं और इससे क्या फायदे मिलेंगे और ई श्रम कार्ड के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे कराया जाता है…

E-Shram Portal पर रजिस्टर्ड मजदूरों के खाते में योगी सरकार भेज रही है पैसा, देखें कैसे मिलेगा इसका लाभ

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार सोमवार यानी आज डेढ़ करोड़ श्रमिकों को एक हजार रुपये की राशि उनके खाते में भेजगी। प्रदेश में कुल पंजीकृत कामगारों की संख्या 50908745 करोड़ (पांच करोड़ 90 लाख आठ हजार 745) है। इसमें से ई श्रम पोर्टल पर पंजीकृत असंगठित कामगारों की संख्या 38160725 और बीओसी डब्लू बोर्ड के अंतर्गत कुल पंजीकृत कामगारों की संख्या 12748020 है। इनमें से पहले चरण में डेढ़ करोड़ कामगारों के खाते में भरण पोषण भत्ता भेजा जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहले भी श्रमिकों, स्ट्रीट वेंडरों, रिक्शा चालकों, कुलियों, पल्लेदारों आदि को भरण पोषण भत्ता ऑनलाइन उपलब्ध कराया है। उत्तर प्रदेश को देश का पहला राज्य बनाने का काम किया था। जिसके बाद कई राज्यों ने भी योगी सरकार की व्यवस्था को लागू किया। 

500 रुपए प्रति माह देने की घोषणा


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सोमवार को प्रदेश के 1.50 करोड़ कामगारों को भरण पोषण भत्ता राशि देने का शुभारम्भ करेंगे। इसमें 500 रुपए प्रति माह के अनुसार दो महीने का एक हजार रुपए भत्ता दिया जायेगा। इस तरह सरकार सोमवार को कामगारों और निर्माण श्रमिकों को कुल 1500 करोड़ रुपए हस्तांतरित करेगी।  इस योगी राज ने श्रमिकों को भरण पोषण भत्ता देकर देश में प्रदेश को पहले पायदान बैठाने का काम किया था।क्योंकि योगी सरकार से पहले देश के किसी प्रदेश ने इस व्यवस्था पर काम नहीं किया था।

हालांकि इसके बाद कई राज्यों ने इस व्यवस्था को अपने यहां लागू किया। योगी सरकार एक बार फिर कोरोना काल में श्रमिकों और वंचित तबके की जीवन और जीविका बचाने का काम फिर शुरू करने जा रही है।  वैश्विक महामारी कोरोना की मार से समाज का हर तबका प्रभावित रहा। चूंकि दूसरी लहर पहले की तुलना में 30 से 50 गुना अधिक संक्रामक थी, लिहाजा इसका असर भी उसी अनुसार रहा। इसके साथ यह भी सच है कि समाज का सबसे वंचित तबका जिसके परिवार का गुजारा उसकी मुखिया की रोज की कमाई पर निर्भर करता है,वह इस अभूतपूर्व और अप्रत्याशित महामारी से सर्वाधिक प्रभावित रहा।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Shopping Cart
Enable Notifications    OK No thanks