Manish Tiwari Congress : मुम्बई 26-11 हमले के बाद पाकिस्तान पर कार्यवाही न करना मनमोहन सरकार की गलती -मनीष तिवारी

Manish Tiwari Congress : मुम्बई 26-11 हमले के बाद पाकिस्तान पर कार्यवाही न करना मनमोहन सरकार की गलती -मनीष तिवारी

कांग्रेस की मुश्किलें कम होने का नाम नही ले रही है, सालमन खुर्शीद के बाद अब मनीष तिवारी ने अपनी किताब में मुंबई हमलों का जिक्र करते हुए इसे कांग्रेस मनमोहन सरकार की नाकामी बताया है ।

कांग्रेस के नेता मनीष तिवारी (Manish Tiwari) की आने वाली नई किताब चर्चा में है. मनीष तिवारी ने अपनी नई किताब में मनमोहन सरकार (Manmohan Government) पर सवाल उठाए हैं. मनीष तिवारी ने एक किताब लिखी है जो जल्द ही लोगों के सामने होगी. इसमें उन्होंने 26/11 के मुंबई हमलों के बारे में सवाल पूछे हैं. 

मनीष तिवारी ने अपनी किताब में लिखा कि जब किसी देश (पाकिस्तान) को अगर निर्दोष लोगों के कत्लेआम करने का कोई खेद नहीं तो संयम ताकत की पहचान नहीं है, बल्कि कमजोरी की निशानी है. 26/11 एक ऐसा मौका था जब शब्दों से ज्यादा जवाबी कार्रवाई दिखनी चाहिए थी. उन्होंने मुंबई हमले की तुलना अमेरिका के 9/11 से करते हुए कहा कि भारत को उस समय तीव्र जवाबी कार्रवाई करनी चाहिए थी.

मनीष तिवारी के अनुसार कांग्रेस और मनमोहन सरकार को पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी कार्यवाही त्वरित गति से करनी चाहिये थी।

मनीष तिवारी ने किताब में लिखा कि मुंबई हमले (Mumbai Attack) ने करारा जवाब नहीं दिया और डोकलाम विवाद टाला जा सकता था. मनीष तिवारी ने अपनी किताब में लिखा कि 26/11 हमले के बाद कड़ी कार्रवाई जरूरी थी.

ये पहला मौका नहीं है जब मनीष तिवारी ने अपनी ही पार्टी को घेरा है. इससे पहले पंजाब में राजनीति अस्थिरता को लेकर उन्होंने कहा था कि जिन्हें पंजाब की जिम्मेदारी दी गई है, उन्हें उसकी समझ ही नहीं है. इसके अलावा कांग्रेस में कन्हैया कुमार की एंट्री पर भी सवाल उठाए थे. 

मनीष तिवारी के इस वक्तव्य को लेकर भाजपा ने कांग्रेस पर हमला बोला है और कांग्रेस को घेरने की कवायद शुरू कर दी है

मनीष तिवारी के किताब में कही गई बात पर बीजेपी ने भी कांग्रेस को घेरना शुरू कर दिया है. बीजेपी प्रवक्ता शहजाद पूनावाला ने ट्वीट कर कहा कि मनीष तिवारी ने 26/11 के बाद यूपीए सरकार की कमजोरी की ठीक ही आलोचना की है. उन्होंने लिखा कि एयर चीफ मार्शल फली मेजर ने भी कहा था कि इस हमले के बाद वायुसेना कार्रवाई करना चाहती थी, लेकिन यूपीए सरकार ने ऐसा नहीं करने दिया. पूनावाला ने आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस उस समय 26/11 के लिए हिंदुओं को जिम्मेदार ठहराने और पाकिस्तान को बचाने में व्यस्त थी.

26/11 भारत के इतिहास का काला दिन

26 नवंबर 2008 भारत के इतिहास का काला दिन था. दरअसल इसी दिन साल 2008 में देश की आर्थिक राजधानी मुंबई पर एक आतंकवादी हमला हुआ था. इस हमले में भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया को हैरान कर दिया था. 26 नवंबर 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकियों ने मुंबई को बम और धमाकों के साथ साथ गोलियों की बौछार से दहला दिया था. करीब 60 घंटों तक मुंबई बंधक बन चुकी थी. इस आतंकी हमले की बरसी आने वाली है. इन आतंकी हमलों के 13 साल हो जाएंगे.

मुंबई के इस आतंकी हमले में करीब 160 से ज्यादा लोगों की जान गई थी. साथ ही 300 से ज्यादा लोग घायल भी हुए थे.

मनीष तिवारी ने अपने एक ट्वीट पैगाम में लिखा कि ‘ये ऐलान करते हुए खुशी हो रही है कि मेरी चौथी किताब जल्द ही बाजार में आएगी. 10 फ्लैश प्वाइंट; 20 साल- राष्ट्रीय सुरक्षा के हालात जिसने भारत को प्रभावित किया. ये किताब पिछले दो दशकों में भारत के सामने आई बड़ी राष्ट्रीय सुरक्षा चुनौती पर है.’

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Shopping Cart
Enable Notifications    OK No thanks