असंतोष से निपटने में कारगर रही भाजपा की रणनीति, एक मंच पर आईं सांसद केशरी देवी और रेखा सिंह

असंतोष से निपटने में कारगर रही भाजपा की रणनीति, एक मंच पर आईं सांसद केशरी देवी और रेखा सिंह
जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में असंतोष से निपटने में भाजपा की रणनीति कारगर रही। भाजपा की ओर से जब जिला पंचायत अध्यक्ष पद के प्रत्याशी का नाम घोषित नहीं हुआ था, तब निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष रेखा सिंह को ही संभावित प्रत्याशी के रूप में देखा जा रहा था। हालांकि पार्टी ने पिछले सप्ताह रेखा सिंह की जगह जब डॉ. वी के सिंह को अपना प्रत्याशी बनाया तो उस दिन डिप्टी सीएम की मौजूदगी में हुए कार्यक्रम में रेखा सिंह अनुपस्थित रहीं, लेकिन आने वाले दिनों में कुछ पाने की उम्मीद में वो पिघल गईं। शनिवार को जब नामांकन हुआ तो रेखा सिंह अपने पति अशोक सिंह के साथ जहां जिला पंचायत तक गईं, तो वहीं वो डॉ. वी के सिंह की प्रस्तावक भी बनीं। 
विगत 26 जून को हुए नामांकन के तीन दिन पहले तक किसी को भी उम्मीद नहीं थी कि रेखा सिंह भाजपा प्रत्याशी डॉ. वी के सिंह की प्रस्तावक बनेंगी। लेकिन भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के हस्तक्षेप के बाद यह संभव हो गया। चर्चा है कि अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव में रेखा सिंह या फिर उनके पति अशोक सिंह को पार्टी टिकट दे सकती है। इसके अलावा भाजपा खेमे में चर्चा यह भी है कि रेखा सिंह या अशोक सिंह को किसी आयोग में या फिर एमएलसी बनाने पर भी पार्टी विचार कर रही है। 

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
न्यूज़