MIS-C का कहर, दिल्ली एनसीआर के बच्चों में बीमारी की हुई पुष्टि, पांच से पंद्रह साल के बच्चे हैं चपेट में !

MIS-C का कहर, दिल्ली एनसीआर के बच्चों में बीमारी की हुई पुष्टि, सात से पंद्रह साल के बच्चे हैं चपेट में !

इंडियन एकेडमी ऑफ पेडियाट्रिक्स इंटेंसिव केयर चैप्टर का डेटा बताता है कि कोविड-19 की पहली लहर में MIS-C के दो हजार से ज्यादा मामले दर्ज किए गए थे । एक्सपर्ट के अनुसार यदि जल्द पता चल जाए बीमारी का तो ईलाज संभव है ।

, Jan Media TV

कोरोना वायरस के बाद बच्चों को शिकार बना रहे मल्टी-सिस्टम इंफ्लेमेट्री के मरीजों की संख्या में इजाफा जारी है। दिल्ली-एनसीआर में इस बीमारी से जुड़े 177 नए मामले सामने आए हैं। इनमें से 109 दिल्ली में दर्ज किए गए हैं, जबकि 68 अन्य केस गुरुग्राम और फरीदाबाद में मिले हैं । डॉक्टर का कहना है कि कोरोना से ठीक हुए बच्चों में ये बीमारी पाई जा रही है ।

इंडिया टूडे के अनुसार ये बीमारी पांच से पंद्रह साल के बच्चों में देखा जा रहा है । MIC -C के शिकार बच्चों में बुखार ,फेफड़े और मस्तिष्क में सूजन , सर्दी-जुकाम, पेटदर्द ,नाखुनों का नीला पड़ना इत्यादि लक्षण है ।

डॉक्टर धीरेन गुप्ता का कहना है कि , ‘बच्चों में कोविड-19 का गंभीर संक्रमण दो बदलाव लाता है , बच्चे को निमोनिया हो सकता है या MIS-C की स्थिति बन सकती है.’ उन्होंने बताया, ‘जल्द पहचान ही परेशानी को समय पर पकड़ने में मदद कर सकती है , “डॉक्टर गुप्ता” सर गंगाराम अस्पताल में पीडियाट्रिशियन हैं।

, Jan Media TV
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
न्यूज़